April 13, 2009

एक तस्वीर..... अनजानी सी

काजल (Pink Orchid) ने अपनी कविता के माध्यम से एक अत्यंत ही गहन विचार हमारे सामने उपस्थित किया हैं! काजल की कविता यहाँ पढिये! जिंदगी के सबसे अहम् फैसले को सिर्फ एक खोखली प्रथा की बुनियाद पर लेना मेरी भी कल्पना से परे हैं! काजल ने एक लड़की की व्यथा को हमारे सामने रखा हैं! मैं अपनी तरफ से इसी बारे मैं लड़के का दृष्टिकोण, उसकी दुविधा प्रस्तुत कर रहा हूँ!


ज़िन्दगी के इस मकाम पर खडा हूँ,
सफ़र लम्बा हैं, एक हमराही की तलाश हैं,
कोई जो दिल की गहरायी मैं ज्हांक सके,
ऐसे एक हमसफ़र की तलाश हैं!

तुम्हारी तस्वीर लिए बैठा हूँ,
इन ज्हील सी आँखों मैं कुछ ढूँढ़ता,
सोचता हूँ, इस आसमानी खूबसूरती के परदे मैं,
कितने ग़मों का हैं बसेरा!

क्या मेरे अनगिनत सवालों का,
तुम वोह जवाब हो?
जिसकी तलाश मैं आज भी गुम हूँ,
क्या तुम वही उमीदों का साहिल हो?

क्या मेरे सपनों का महल,
तुम्हारे साथ हकीकत बन पायेगा?
तुम्हारे और मेरे ख्वाबों के शीशों को,
क्या ये रिश्ता संभाल पायेगा? 

काश, तसवीरें बोल पाती,
काश, के तुमसे रूबरू हो पाता,
तुम्हें समझने की कोशिश करता,
और तुम्हारी आशाओं को सुन सकता!

ये कोई खेल नहीं हैं,
जहां मौका दोबारा मिल सके,
एक ही दिल हैं हमारे पास, और एक ख्वाइश,
के इसे अपने हमसाये के नाम कर सके!

तुम्हारे जेहन मैं भी,
शायद यही सवाल गूंज रहे हो,
के अपनी ज़िन्दगी, अपनी तकदीर,
एक अजनबी के हवाले न कर दो!

तुम्हारी मासूम मुस्कान देखकर,
रब से एक ही दुवा करता हूँ,
जो तुम्हारे दिल मैं हो,
वही तुम्हारा हो सके!

मेरे इस सफ़र की मंजिल,
ओज्हल सी हो गयी हैं,
फिर भी चलते रहने का एक खामोश वादा,
मैंने अपने आप से कर लिया हैं!




PS: Didnt cum out as gud as I wanted it to, but den cldnt think of nythng else! :)


Transliteration:

Ek Tasveer...Anjaani Si

Kajal(Pink Orchid) ne apni kavita ke madhyam se ek atyant hi gahan vichar hamare saamne upasthit kiya hain! Kajal ki kavita yahan padhiye! Jindagi ke sabse aham faisle ko sirf ek khokhli pratha ki buniyaad par lena meri bhi kalpana se pare hain! Kajal ne ek ladki ki vyatha ko hamare saamne rakha hain! Main apni taraf se isi bare main ladke ka drishtikon, uski duvidha prastut kar raha hun!


Zindagi ke is makaam par khada hun,
Safar lamba hain, ek hamraahi ki talaash hain,
Koi jo dil ki gehrayi main zhaank sake,
Aise ek humsafar ki talaash hain!

Tumhari tasveer liye baitha hun,
In zheel si aankhon main kuch dhundta,
Sochta hun, is aasmani khubsurti ke parde main,
kitne gamon ka hain basera!

Kya mere unginat sawaalon ka,
Tum woh jawaab ho?
Jiski talaash main aaj bhi gum hoon,
Kya tum wahi umeedon ka saahil ho?

Kya mere sapnon ka mahal,
Tumhare saath hakikat ban payega?
Tumhare aur mere khwabon ke shishon ko,
Kya ye rishta sambhal payega? 

Kaash, tasveerein bol pati,
Kaash, ke tumse rubaroo ho pata,
Tumhein samajhne ki koshish karta,
Aur tumhari aashaon ko sun sakta!

Ye koi khel nahi hain,
Jahaan mauka dobara mil sake,
Ek hi dil hain hamare pas, aur ek khwaish,
Ke ise apne humsaye ke naam kar sake!

Tumhare zehan main bhi,
shayad yahi sawaal gunj rahe ho,
Ke apni zindagi, apni takdeer,
Ek ajnabi ke hawaale na kar do!

Tumhari masoom muskan dekhkar,
Rab se ek hi duan karta hun,
Jo tumhare dil main ho,
Wahi tumhara ho sake!

Mere is safar ki manzil,
Ozhal si ho gayi hain,
Chalte rehne ka ek khamosh vaada,
Maine apne aap se kar liya hain!




6 comments:

  1. my poem couldn't have a had a better reply.

    Mav!!

    you know what I am so happy! so damn happy reading this!! can you guess why??


    OH MY GOD!!

    I am pinching myself time and again..

    *touchwood*


    big hug!!

    ReplyDelete
  2. Thnx Kajal! dat u gav me an opportunity to reply, is a relief to me! der was a vacuum created sumhow, where i was finding it difficult to find sumthng to write about!
    nd den u came along wid dis gem of a poem of usr nd da offer fr me to write a reply!
    Thank u so much! *hugs*

    ReplyDelete

Comments are sexy.