January 16, 2009

बस प्यार भरी एक नज़र sufficient हैं

बस प्यार भरी एक नज़र sufficient हैं ,

हर साँस में वह आजकल मेरी present हैं ,
चलता हैं दिल से काम ,दिमाग absent हैं

कैसे बताऊ कैसी हैं जो दिल में बसी हैं ,
यो समझे दिल हैं पान और वह पिपरमेंट हैं

दिल पर जो जिद्दी दाग थे सब साफ़ हो गए ,
उसकी हँसी में श्योर कोई detergent हैं

दिल टूटता कहाँ से हैं और जलता कहा से हैं ,
इसमे ना कोई शीशा हैं न फिलामेंट हैं

दौलत ज़माने भर की सभी ले कर क्या करू ,
बस प्यार भरी एक नज़र sufficient हैं .

7 comments:

  1. @Chirag:
    aapki kavitao ko dekh ke lagta hai,
    aapka hindi se koi gehra commitment hai. :P

    ReplyDelete
  2. @pretty me

    hmmm u are right it is hinglish

    ReplyDelete
  3. @the pink orchid

    commitment nahi bas shauk hai mujhe

    mere nanaji kafi accha likahte hai ..kai poems and lekh likhe hai unhone kai books and newspaper me...in hindi,gujarti,marathi


    bas vo hi hai mere inspiration....

    aur mera ek dost hai sath me use shauk hai collect karane ka poem ka..and kuch likhta bhi hai..usi se mujhe bhi likhane ka shauk laga aur last 1 year se likh raha hu

    ReplyDelete
  4. Hey Chirag, luvd dis one! Nice rhyme scheme and good english-hindi combo!
    Lukin frwrd for more of ur wrk!

    ReplyDelete
  5. wondeful poem chirag!

    u rock at hindi sahitya



    keep it up!

    ReplyDelete
  6. @aparna
    thanks again

    ya iam trying to rock
    still some points where i want to improve

    ReplyDelete

Comments are sexy.